वूमन सैल की तरफ से तीन दिवसीय आॅनलाईन कार्यशाला “पवित्र: महिला स्वास्थ्य एवं स्वच्छता” का आयोजन

कॉलेज की वूमन सैल की तरफ से तीन दिवसीय आॅनलाईन कार्यशाला “पवित्र: महिला स्वास्थ्य एवं स्वच्छता” का शुभारंभ प्राचार्य डा संजय गोयल ने किया। उन्होने अपने संभाषण में कोविड-19 के काल में महिला स्वास्थ्य एवं स्वच्छता को समय की जरूरत बताया एवं विशेषरूप से महिलाओं की जिम्मेवारीयों को देखते हुए स्वास्थ्य सम्बन्धी और ज्यादा सतर्कता बरतने पर जोर दिया। स्वच्छता का विषय भी इस समस्या से जुड़ा एक मुख्य मुद्दा रहा है, अतः महिलाओं के संदर्भ में इस पर ध्यान देना और भी जरूरी है। डा गोयल ने वूमन सैल को इस तात्कालिक महत्व के विषय के ऊपर कार्यशाला आयोजित करने पर बधाई दी। इससे पहले सैल की संयोजिका प्रो. रचना सरदाना ने प्राचार्य डा संजय गोयल, मुख्य वक्ता सोनल आंनद, आर्ट आॅफ लिवींग एवं सभी प्रतिभागीयों का स्वागत किया। सोनल आंनद ने आज मुख्यतः महिला स्वास्थ्य एवं इससे जुड़े विभिन्न विषयों के बारे में अवगत करवाया। उन्होनें कुछ विशेष प्रकार के योगों का अभ्यास करवाया जो कोरोना जैसी परिस्थितियों में मानसिक एवं शारीरिक मजबूती के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। कार्यक्रम के अंत में डा. गीता गोयल ने सभी का धन्यवाद किया। इस अवसर डा. मंजूला गोयल, प्रो.रिचा लांग्यान, डा. सुरूची शर्मा, प्रो. मनिका गुप्ता ने कार्यक्रम सम्बन्धी सभी गतिविधियों का सुचारु ढंग से संचालन किया। इस कार्यशाला में 160 छात्राओं ने भाग लिया तथा इसका आयोजन 19-21 अक्टूबर तक जारी रहेगा।