महाविद्यालय के आई.क्यू.ए.सी. (आंतरिक गुणवत्ता एवं मूल्याकंन प्रकोष्ठ) के द्वारा नैक की टीम के निरीक्षण के लिए वार्षिक रिपोर्ट तैयार

महाविद्यालय के आई.क्यू.ए.सी. (आंतरिक गुणवत्ता एवं मूल्याकंन प्रकोष्ठ) के द्वारा नैक की टीम के निरीक्षण के लिए वार्षिक रिपोर्ट तैयार करके जमा करवा दी है। प्राचार्य डा. संजय गोयल ने लैपटॉप पर बटन दबा कर इसे राष्ट्रीय मूल्याकंन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) बेंगलूरू की वेबसाइट पर जमा करवाया। संयोजिका डा सीमा गुप्ता ने बताया कि इस वर्ष नैक की टीम को कॉलेज के निरीक्षण के लिए आना है, इसके दृष्टिगत रिपोर्ट के सभी पक्षों पर बारिकी से विचार करके प्रतिवेदन को तैयार किया जा रहा है। पांच वर्ष की वार्षिक रिपोर्ट के आधार पर सेल्फ स्टडी रिपोर्ट (एस एस आर) इस वर्ष 2022 के अंत में भेजनी होगी। उसके आधार पर नैक की टीम कॉलेज के निरीक्षण के लिए आएगी। यू.जी.सी. द्वारा निर्धारित 07 कसौटीयों के आधार पर कॉलेज के विकास का स्वयं आकलन किया गया है। इनमें मुख्यत: पठ्न-पाठन, अधिगम का स्तर, संस्थागत विकास, शोध में भागीदारी, नयी तकनीकों का प्रयोग, रिसर्च प्रोजेक्ट, अन्य सहायक गतिविधियां, सामाजिक समन्वय, बेस्ट प्रैक्टिस एवं भावी योजनाओं का संयोजन होता है। इसी के आधार पर यू.जी.सी. ग्रांट एवं अन्य सुविधाओं का निर्धारण होता है। इस प्रकोष्ठ में डा. राजबीर पराशर, डा. गगन मित्तल, प्रो. श्रीओम, डा. शिल्पी अग्रवाल, , डा वीरेंद्र गोयल, डा सुरेंद्र सिंह, प्रो पूजा गुप्ता, प्रो रचना सरदाना, डा सुरूची शर्मा, डा नरेश कुमार, डा रितु वालिया, डा. अनिल जिंदल, प्रो. अंकित गर्ग, प्रो. निधि गोयल, प्रो. ममता शामिल थे। अमित गुप्ता ने इस दस्तावेज को तकनीकी रूप से तैयार करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

error: Content is protected !!